21

April 2018
ਉਜਵਲਾ ਯੋਜਨਾ ਅਧੀਨ ਰਾਣਾ ਕੇ ਪੀ ਸਿੰਘ ਨੇ ਸ਼੍ਰੀ ਅਨੰਦਪੁਰ ਸਾਹਿਬ ਵਿਖੇ ਲਾਭਪਾਤਰੀਆਂ ਨੂੰ ਵੰਡੇ ਮੁਫਤ ਰਸੌਈ ਗੈਸ ਕੁਨੇਕਸ਼ਨ।ਤੂੰ ਨੇਤਾ ਬਣਨਾ ਚਾਹੁੰਦੀ ਏ/ ਪੰਜਾਬੀ ਡਿਊਟ ਗੀਤ ,, ਪਰਸ਼ੋਤਮ ਲਾਲ ਸਰੋਏ" ਬਜੁਰਗਾਂ ਕੀ ਹੁੰਦੇ ਨੇ" ,, ਹਾਕਮ ਸਿੰਘ ਮੀਤ ਬੌਂਦਲੀ (੨੧ ਅਪਰੈਲ ਜਨਮ ਦਿਨ 'ਤੇ) ਭਗਤ ਧੰਨਾ ਜੀ ਦੀ ਪ੍ਰੇਮਾ-ਭਗਤੀ ਅਤੇ ਰੱਬੀ ਬਖ਼ਸ਼ਿਸ਼ ,, -ਰਮੇਸ਼ ਬੱਗਾ ਚੋਹਲਾ ਕਹਾਣੀਆਂ ਵਿੱਚ ਗ਼ਜ਼ਲਾਂ ਵਰਗੀ ਰੋਚਕਤਾ ਭਰਦੀ ਹੈ ਪਵਿੱਤਰ ਕੌਰ ਮਾਟੀ , ਸੁਨੀਲ ਕੁਮਾਰ ਨੀਲ ਨਬਾਲਗ ਆਸਿਫ਼ਾ ਦੇ ਸਮੂਹਿਕ ਬਲਾਤਕਾਰ ਨੇ ਇਨਸਾਨੀਅਤ ਸ਼ਰਮਸ਼ਾਰ ਕੀਤੀ , ਉਜਾਗਰ ਸਿੰਘ ਭਾਰਤੀ ਪੰਚਾਇਤ ਵਿਵਸਥਾ ,, ਜਸਪ੍ਰੀਤ ਕੌਰ ਸੰਘਾਘੋਰ ਕਲਯੁਗ: ਜੀਵਨ ਖਰਚਾ ਖ੍ਰੀਦਣ ਲਈ ਵੇਚਦੀ ਰਹੀ ਆਪਣੀ ਧੀਇਨਸਾਫ਼ , ਸੰਦੀਪ ਕੌਰ ਚੀਮਾਮਿੱਟੀ ਦੀ ਅਵਾਜ਼ ਕਾਵਿ ਸੰਗ੍ਰਹਿ ਸਮਾਜਿਕ ਬੁਰਾਈਆਂ ਵਿਰੁੱਧ ਲਾਮਬੰਦ ਹੋਣ ਦੀ ਤਾਕੀਦ,, ਉਜਾਗਰ ਸਿੰਘ
Hindi

जित जमहि राजान खालसा मार्च बना आकर्षण का केंद्र ।

February 19, 2018 11:21 PM

जित जमहि राजान खालसा मार्च बना आकर्षण का केंद्र ।


गंगानगर (राजस्थान )कुलजीत सिंहश्री गंगानगर  राजस्थान में गुरुद्वारा बाबा दीप सिंह जी शहीद से आरंभ होने वाले जित जमहि राजान खालसा मार्च 100 किलोमीटर का सफर तय करते हुए देर रात 10 बजे अपने मूल स्थान पर पहुंच कर समाप्त हुआ ।गुरु ग्रँथ साहिब जी की छत्र छाया में जैसे ही खालसा मार्च शुरू हुआ वैसे ही हज़ारो को संख्या में संगतें सड़कों पर आ गई ।छतों से फूलों की वर्षा ऐसे हो रही थी ।जैसे हर कोई  इस खालसा मार्च में समा जाना चाहता है ।इस मार्च का विशेष आकर्षण महा नायक संत ज्ञानी जरनैल सिंह जी खालसा के सपुत्र भाई ईशर सिंह जी थे ।खालसा मार्च में शामिल होने के लिए श्री गंगानगर की सरजमीन पर भाई ईशर सिंह ने कदम रखा उस समय सिक्ख युवाओं में उत्साह देखने लायक था ।खेत खलिहान से लेकर गाँवो मंडियों और कस्बो5 में हर जगह जहाँ भी लोग भ्रूण हत्या खिलाफ संकल्प पत्र भर रहे थे ।वहीं ही गुरु साहिब जो को नतमस्तक होकर भाई ईशर सिंह जी का सिरोपा ,शील्ड ,लोई और दस्तार के साथ कर रहे थे ।आज का यह ऐतिहासिक जन सैलाब इस बात का गवाह था कि कौमी परिवारों  के प्रति संगतो के दिलों में श्रद्धा था ।आज संगत ने यह साबित कर दिया कि कि गुरु के साथ कितना प्यार करते हैं ।इस मौके पर तजिन्दरपाल सिंह टिम्मा ने बताया कि 20 फरवरी  तक रोजाना शाम 7 बजे से 10 बजे तक  गुरुद्वारा बाबा दीप सिंह शहीद में धार्मिक दिवान सजाए जाएंगे ।जिसने मशहूर कथावाचक ज्ञानी पिंद्रपाल सिंह लुधियाना वाले के इलावा दरबार साहिब के हजूरी रागी भाई जुझार सिंह ,भाई बलविंदर सिंह लोपोके ,जवद्दी टक्साल से भाई निरंजन सिंह ,और इंटेरनाशनल ढाढी जत्था भाई रछपाल सिंह हाजरी भरेंगे ।

Have something to say? Post your comment
Punjabi in Holland
Email : hssandhu8@gmail.com

Total Visits
php and html code counter
Copyright © 2016 Punjabi in Holland. All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech