Thursday, May 23, 2019
FOLLOW US ON

Hindi

हत्या के दोनों मामलों में रामपाल दोषी करार, विशेष अदालत ने सुनाया फैसला

October 11, 2018 08:09 PM
General

हत्या के दोनों मामलों में रामपाल दोषी करार, विशेष अदालत ने सुनाया फैसला
नई दिल्ली कुलजीत सिंह
 राम आश्रम संचालक रामपाल पर चार साल बाद हत्या के केस में हिसार की विशेष अदालत गुरुवार (11 अक्टूबर) को फैसला सुनाया. हिसार कोर्ट ने साल 2014 में आश्रम में हुई हिंसा के दौरान हुई मौत के मामले में रामपाल को दोषी करार दिया है. हत्या के दोनों मामलों पर विशेष दालत ने अपना फैसला सुनाया है. विडियो कांफ्रेंस के जरिए कोर्ट ने ये फैसला सुनाया. अतिरिक्त सेशन जज डीआर चालिका फैसला सुनाया. सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए जेल परिसर के बाहर नाका लगाकर भारी पुलिस बल और आरएएफ के जवानों को तैनात किया है.
किसी भी संभावित बवाल, हिंसा और तोड़फोड़ जैसी घटनाओं से निपटने के लिए पुलिस ने सुरक्षा के अभूतपूर्व इंतजाम किए हैं. हिसार जिले में धारा-144 लागू कर दी गई है. अदालत के चारों ओर तीन किलोमीटर का सुरक्षा घेरा बनाया गया है. इस सुरक्षा घेरे को भेदकर कोई भी बाहरी व्यक्ति अंदर प्रवेश नहीं कर सकेगा. हिसार के रेलवे स्टेशन पर रेलवे पुलिस के साथ साथ पैरामिलिट्री फोर्स तैनात की गई हैं. मुख्यमंत्री मनोहर लाल स्वयं इस मामले पर नजर बनाए हुए हैं.
आपको बता दें कि गुरमीत राम रहीम मामले की सुनवाई के दौरान उनके समर्थकों ने पंचकुला में बड़े पैमाने पर हिंसा की थी. इसलिए प्रशासन पहले से ही एहतियात बरत रहा है. प्रशासन को अंदेशा है कि सुनवाई के दौरान रामपाल के 10 से 20 हजार श्रद्धालु कोर्ट परिसर, सेंट्रल जेल, लघु सचिवालय, टाउन पार्क और रेलवे जैसी जगहों पर इकट्ठा हो सकते हैं. पंचकूला में डेरा सच्‍चा सौदा प्रमुख गुरमती राम रहीम को फैसला सुनाए जाने के समय हुई चूक से सबक लेकर सरकार और पुलिस सुरक्षा में कोई कमी नहीं छोड़ना चाहती है.
18 नवंबर 2014 को सतलोक आश्रम के संचालक रामपाल को बरवाला स्थित आश्रम से बाहर निकालने के लिए पुलिस ने अभियान शुरू किया था. पहले ही दिन काफी लोग घायल हुए थे, लेकिन समर्थक नहीं हटे थे. अगले दिन रामपाल स्वयं बाहर निकला था. इस दौरान पांच महिलाओं सहित एक बच्चे की मौत हुई थी. इस संबंध में पुलिस ने एफआईआर नंबर 429 और 430 नंबर दर्ज की थी. एफआईआर नंबर 429 में रामपाल के अलावा 15 लोग और एफआइआर नंबर 430 में रामपाल सहित 14 लोगों पर केस दर्ज किया गया था.
रामपाल पर पुलिस ने नवंबर 2014 में सात केस दर्ज किए थे. इसमें देशद्रोह, हत्या, अवैध रूप से सिलेंडर रखने आदि काफी मामले हैं. रामपाल इनमें से दो केसों में बरी हो चुका है. इन दोनों केसों में पुलिस कोई पुख्ता सबूत पेश नहीं कर सकी थी, जिस पर कोर्ट ने भी टिप्पणी की थी. एक मुकदमे से अदालत ने रामपाल का नाम हटा दिया था.

Have something to say? Post your comment

More Hindi News

अमृत पाल गोगिया जी की दूसरी काव्य पुस्तक "मन की आवाज़" तथा वीडियो "बलमा" का लोकार्पण
अमृतसर कांड में फगवाड़ा की बहु व बेटी के संस्कार पर पहुंचे विधायक सोम प्रकाश व मेयर खोसला
डेंगू की रोकथाम के प्रति प्रशासन सिर्फ फोटो खिंचवाने तक सीमित-शिव सेना (बाल ठाकरे)
डीईओ अमृतसर की ओर से आरज़ी एडजैस्टमैंट के खिलाफ एसएलएज़ ने की हंगामी बैठक
फ़ूड सेफ्टी एक्ट के नियमों पालना ना करने वालों के खिलाफ होगी कार्रवाई : पन्नू ।
पहले प्रकाश पर्व के पवित्र मौके पर आइ.एफ.ए. के विद्यार्थियों ने आरंभ किए श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी के सहज पाठ !
नगर कौंसल कर्मियों द्वारा नालों में लगाई गई रोक के चलते बरसात होते ही गलियां और बाजार में भरा पानी !
फ़र्ज़ी डॉक्टर भी निभा रहे है नशे की बिक्री में अहम भूमिका !
जंडियाला गुरु में धड़ल्ले से बिक रहा है बिन एक्सपायरी डेट के माल ,लोगों की सेहत के साथ हो रहा है खिलवाड़ ।
बड़े नशा तस्करों पर भी पुलिस कसेगी शिकंजा ,नशे की कमाई से बनाई गई बेनामी प्रॉपर्टी होगी अटैचमेंट :डी एस पी जंडियाला गुरु
-
-
-